कोलकाताबिजनौर-उत्तरप्रदेश

दरबार फुलसंदा में वृक्षारोपण करते सत्पुरुष बाबा फुलसन्दे वाले

WhatsApp Image 2024-04-18 at 10.57.41
WhatsApp Image 2024-05-16 at 10.08.18
WhatsApp Image 2024-05-18 at 13.02.08
WhatsApp Image 2024-05-18 at 13.01.50
previous arrow
next arrow
WhatsApp Image 2024-04-08 at 17.25.32
WhatsApp Image 2024-03-03 at 00.25.49
WhatsApp Image 2024-04-24 at 21.43.09
WhatsApp Image 2024-04-25 at 09.18.36
WhatsApp Image 2024-05-08 at 12.33.24
WhatsApp Image 2024-05-12 at 12.50.39
previous arrow
next arrow

दरबार फुलसंदा में वृक्षारोपण करते सत्पुरुष बाबा फुलसन्दे वाले

अभिनव अग्रवाल की रिपोर्ट
नहटौर। दरबार फुलसन्दा में उत्तर प्रदेश योगी सरकार द्वारा चलाए जा रहे “वृक्षारोपण जन आंदोलन 2022” अभियान के तहत परम ब्रह्म की ज्योति सत्पुरूष बाबा फुलसंदे वालों ने वृक्षारोपण कर प्रकृति को बचाने का संदेश जन-जन को दिया। उन्होंने बताया पर्यावरण शब्द ‘परि +आवरण’ के संयोग से बना है। ‘परि’ का आशय चारों ओर तथा ‘आवरण’ का आशय परिवेश है। दूसरे शब्दों में कहें तो पर्यावरण अर्थात वनस्पतियों, प्राणियों, और मानव जाति सहित सभी सजीवों और उनके साथ संबंधित भौतिक परिसर को पर्यावरण कहतें हैं, वास्तव में पर्यावरण में वायु, जल, भूमि, पेड़-पौधे, जीव-जन्तु , मानव और उसकी विविध गतिविधियों के परिणाम आदि सभी का समावेश होता है। वही सत्पुरुष बाबा फुलसन्दे वालो ने कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार बीते साढ़े 4 साल में प्रदेश में 100 करोड़ वृक्ष लगा चुकी है। यह पूरी दुनिया में अपने आप में एक अनोखा रिकॉर्ड है। वृक्ष प्रकृति के अनमोल रत्न हैं। इनकी रक्षा हम सबका दायित्व है। पर्यावरण सुरक्षित रहेगा, तो हम स्वस्थ रहेंगे। पर्यावरण को नुकसान से अनेक बीमारियां, मानव जीवन व जीव सृष्टि को त्रस्त करेंगी। ऐसी स्थिति से बचने के लिए हम सभी को ‘वन है तो जीवन है, जल है तो कल है’ के संकल्प के साथ पर्यावरण की सुरक्षा एवं संरक्षण के प्रयास करने होंगे। इस अवसर पर राहुल देवता, दानी जी, धनपति देवता, अग्नि देवता आदि मौजूद रहे।

100% LikesVS
0% Dislikes

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
close