बिज़नेस
Trending

सेंसेक्स में 500 अंकों से ज्यादा की गिरावट, INOX के शेयरों में 20% का उछाल

AIRA NEWS NETWORK – सप्ताह के पहले दिन शेयर बाजार (Share market updates) पर दबाव दिख रहा है. शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स में 500 अंकों से ज्यादा की गिरावट (Sensex today) दर्ज की गई. सुबह के 10.55 बजे सेंसेक्स 464 अंकों की गिरावट के साथ 56897 के स्तर पर और निफ्टी 130 अंकों की गिरावट के साथ 17023 के स्तर पर ट्रेड कर रहा था.

इस समय सेंसेक्स के टॉप-30 में छह शेयर तेजी के साथ और 24 शेयर गिरावट के साथ ट्रेड कर रहे थे. भारती एयरटेल, आईटीसी और मारुति के शेयरों में तेजी देखी जा रही है. वहीं, HDFC, एचडीएफसी बैंक, एचसीएल टेक्नोलॉजी और नेस्ले इंडिया के शेयरों में गिरावट दिख रही है.

एयरटेल ने वोडाफोन से इंडस टावर में हिस्सेदारी खरीदने का ऐलान किया है जिसके बाद इंडस टावर के शेयरों में तेजी है. मर्जर के बाद PVR और INOX के शेयरों में भयंकर तेजी है. दोनों शेयर 52 सप्ताह के नए उच्चतम स्तर पर पहुंचा है. आईनॉक्स के शेयरों में आज 20 फीसदी तक की तेजी दर्ज की गई है. ब्रोकरेज MS ने रिलायंस, एसबीआई कार्ड, भारती एयरटेल में खरीदारी की सलाह दी है. CLSA ने एम्बेसी REIT में खरीदारी की सलाह दी है. उसने आईनॉक्स और पीवीआर में भी खरीदारी की सलाह दी है.

चीन में नए सिरे से लॉकडाउन लागू किया गया

चीन से आई खबर के कारण आज एशियाई बाजार पर दबाव है. चीन के फाइनेंशियल हब शंघाई में कोरोना के कारण नए सिरे से लॉकडाउन लगाया गया है. इसके कारण फिर से कोरोना के नए वेव का डर बढ़ गया है. नए वेरिएंट के कारण ग्लोबल एक्टिविटी को झटका लगने का डर बढ़ गया है. ऐनालिस्ट केवल क्वॉलिटी स्टॉक में निवेश की सलाह दे रहे हैं.

FPI ने की 1507 करोड़ की बिकवाली

विदेशी संस्थागत निवेशकों (Foreign Portfolio Investors) का बिकवाली का रुख फिर से नजर आने लगा है. शेयर बाजार के आंकड़ों के मुताबिक एफआईआई ने शुक्रवार को 1,507.37 करोड़ रुपए मूल्य के शेयरों की शुद्ध बिकवाली की. इस साल विदेशी निवेशक भारतीय बाजारों से अब तक 1,14,855.97 करोड़ रुपए की निकासी कर चुके हैं.

यूक्रेन क्राइसिस का असर कम हुआ है

जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटिजिस्ट वीके विजय कुमार ने कहा कि शुरू में यूक्रेन क्राइसिस और कच्चे तेल के भाव ने दुनिया भर के बाजारों को बुरी तरह प्रभावित किया. हालांकि, अब इनका प्रभाव कम हुआ है. इस साल शेयर बाजार की सबसे बड़ी चुनौती दुनिया में बढ़ती महंगाई है. अमेरिका में महंगाई दरर चार दशकों के उच्चतम स्तर पर है जिसके कारण फेडरल रिजर्व ने ब्याज में 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी की है. महंगाई को कंट्रोल में करने के लिए वह इस साल 6-7 बार इंट्रेस्ट रेट में बढ़ोतरी कर सकता है. बाजार का मानना है कि फेडरल रिजर्व इस साल इंट्रेस्ट रेट में 1.9 फीसदी तक की बढ़ोतरी कर सकता है.

रिटेल निवेशकों की भागीदारी बढ़ी है

पिछले छह महीने से फॉरन पोर्टफोलियो इन्वेस्टर्स (FPI) लगातार बिकवाली कर रही हैं. दूसरी तरफ रिटेल इन्वेस्टर्स और डोमेस्टिक इंस्टिट्यूशनल इन्वेस्टर्स (DII) लगातार खरीदारी कर रहा है. इंडिया स्टॉक मार्केट पर अब डीआईआई और रिटेल निवेशकों का प्रभाव बढ़ गया है. बाजार में वोलाटिलिटी काफी है ऐसे में रिटेल निवेशकों को बाजार में संभलने की जरूरत है. उन्हें हाई क्वॉलिटी स्टॉक में निवेश की सलाह दी गई है.

SOURCE

50% LikesVS
50% Dislikes

Aira Network

Aira News Network Provides authentic news local. Now get the fairest, reliable and fast news, only on Aira News Network. Find all news related to the country, abroad, sports, politics, crime, automobile, and astrology in Hindi on Aira News Network.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
close